त्रयम्बकेश्वर मंदिर नासिक में कालसर्प दोष की पूजा

काल सर्प दोष पूजा त्र्यंबकेश्वर

हिन्दू धर्म के अनुसार हमें अपने पूर्व जन्मों के कार्यों का फल इस जन्म में भी भुगतना होता है | काल सर्प दोष भी इसी तरह के कुछ पूर्व जन्मों के अपराध तथा दूषित कर्मों का प्रभाव इस जन्म पर होता है | इस तरह के जातक शारीरिक अवं आर्थिक रूप से तंग रहते है | इस दोष का अभिशाप वैवाहिक दाम्पत्य एवं सन्तानो पर भी होता है|

काल सर्प पूजा

काल सर्प दोष का एक मात्र निवारण काल सर्प पूजा है | इस पूजा से काल सर्प योग के दोषो के निवारण के साथ जीवन में एक सकारात्मक बदलाव भी दिखता है | हमारे हिन्दू शास्त्रों एवं पंडितो के द्वारा इस पूजा के लिए सर्वोत्तम समय किसी भी बुधवार को आने वाली अमावस्या पर होता है| यह पूजा करते समय यह ध्यान में रखा जाए की यह किसी जानकार पंडित के संज्ञान में की जाए |

अंकित गुरूजी से अपनी कुंडली निशुल्क जांचे 08378000068

त्र्यंबकेश्वर में काल सर्प पूजा

त्र्यंबकेश्वर त्रयंबक शहर में एक पवित्र हिन्दू मंदिर है| भारतीयों का यह मानना है कि यह काल सर्प पूजा मुख्यत इसी मंदिर में की जाती है | यह पूजा घर परिवार के सदस्यों के साथ अथवा किसी अन्य समूह में की जाती है | पंडित मंत्रो का जाप करता है और भक्त पूजा में विलीन होकर उन मंत्रो में खुद को समाहित होते है |

त्र्यंबकेश्वर में काल सर्प पूजा हेतु मंदिर का प्रांगण प्रातः ५ बजे से रात्रि १० बजे तक खुलता है | पुरुषो को धोती एवं बनियान तथा महिलाओं के लिए साड़ी पहनने की सलाह दी जाती है | काला एवं हरा रंग पहनना इस पूजा में बाधित है एवं भक्त सफ़ेद रंग पहनना पसंद करते है | इस पूजा के लिए टिकट भी लेनी होती है तथा टिकट का दाम पूजा के स्थान पर निर्भर करता है जैसे ऐ सी हाल , प्रागण के अंदर, प्रांगण के बाहर इत्याति |

त्र्यंबकेश्वर में काल सर्प पूजा का तरीका

सर्वप्रथम समस्त पूजा सामग्री एकत्रित की जाती है | भक्तों को बहार से इस पूजा के लिए कोई भी सामग्री नहीं लानी होती है| यह पूजा अनुमानन तीन घंटे में पूरी हो जाती है| भक्त समूह को पूजा से १ घंटे पहले पहुंचना होता है|

काल सर्प पूजा से कई व्याधियों एवं विकारो का निदान होता है | जातक को आर्थिक, शारीरिक एवं मानसिक लाभ प्राप्त होते है|

अंकित गुरूजी से संपर्क करे 08378000068
Posts created 36

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top